सिरोही स्थापना दिवस पर हुए विभिन्न आयोजन

ऐतिहासिक आयोजन में शहरवासियों ने बढ़ चढ़कर लिया भाग

▫️सिरोही स्थापना दिवस पर जिला प्रशासन की ओर से विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया । वहीं रविवार प्रातः शहर में ऐतिहासिक शोभायात्रा आयोजित की गई, जिसमें सभी झूमने पर मजबूर हो गए । महोत्सव के दौरान कई प्रतियोगिताएँ भी आयोजित की गई ।

सिरोही । सिरोही स्थापना महोत्सव के दूसरे दिन कार्यक्रम की शुरूआत भव्य शोभा यात्रा से की गई। शोभायात्रा को विधायक संयम लोढा, जिला एवं सत्र न्यायाधीश विक्रात गुप्ता व जिला कलक्टर डाॅ भंवर लाल ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। शोभायात्रा अहिंसा सर्किल से शुरू होकर जेल रोड होती हुई अम्बेडकर सर्किल पहुंची, वहां से राजमाता धर्मशाला से सरजावाव गेट होकर सदर बाजार से गुजरते हुए राजमहल चैराहा पहुंची। अंत में पैलेस रोड होती हुई अपने गन्तव्य स्थल अरविन्द पैवेलियन पहुंची। बीच रास्ते में शहरवासियों ने जगह जगह पर पुष्प वर्षा कर शोभायात्रा का स्वागत किया। इस शोभा यात्रा में सबसे आगे देशभक्ति के गीतों को प्रस्तुत करता राजस्थान पुलिस बैण्ड का दस्ता, उनके पीछे राजस्थानी धुनों को प्रस्तुत करती अन्य बैण्ड पार्टी, तीसरे स्थान पर नाचते हुए कई कोतल घोडे, उनके पीछे जन प्रतिनिधि एवं प्रशासनिक अधिकारीगण रहे। उसके ठीक पीछे केसरिया साफा पहनकर चल रहे भूतपूर्व सैनिक शोभायात्रा का विशेष आकर्षण रहे। उनके पीछे करीब 400 मंगल कलश लिए एक ही तरह की लाल चुनरी में मातृशक्ति, उसके बाद सिरोही के आदिवासी नृत्य वालर का प्रदर्शन करती गरासिया जाति के स्त्री पुरुषों का दल। उनके पीछे ढोल पार्टी, फिर डीजे पार्टी और उस पर झूमते सिरोही वासियों का दल शोभा यात्रा में शामिल रहा। भव्य शोभा यात्रा में राजस्थानी गैर नृत्य का प्रदर्शन करता जसोल का मालाणी सांस्कृतिक कला मण्डल, उसके पीछे पुनः मंगल कलश लिए मंगल गीत गाती करीब 100 महिलाएं शोभा यात्रा का हिस्सा रही। उनके पीछे कई बैल गाडियों में स्थानीय महिलाओं की भजन मण्डलियों ने भजन गाकर आनन्द लिया। इस भव्य शोभा यात्रा में एनसीसी कैडेट , राजस्थान राज्य भारत स्काउट गाइड के बालचर एवं गाइड्स, उनके पीछे देवासी समाज के लोगो ने अपनी सामाजिक वेशभूषा पहनकर गोरबन्द से सजे संवरे ऊंटों की अगुवाई की। इस नयनाभिराम शोभायात्रा ने सिरोही के हर बाशिन्दे का मन मोह लिया और उसे झूमने पर मजबूर कर दिया। शोभायात्रा का जगह-जगह पर सामाजिक संगठनों ने भी स्वागत किया। शोभा यात्रा का समापन अरविन्द पैवेलियन में हुआ।

स्ट्रीट फोटोग्राफी की प्रदर्शनी व तलवारों की प्रदर्शनी का अवलोकन

महोत्सव के दूसरे दिवस अरविन्द पैवेलियन पर स्ट्रीट फोटोग्राफी की प्रदर्शनी व तलवारों की प्रदर्शनी का विधायक संयम लोढा, जिला एवं सत्र न्यायाधीश विक्रात गुप्ता व जिला कलक्टर डाॅ भंवर लाल ने फीता काटकर शुभारंभ किया। अरविन्द पैवेलियन में लगी तलवारों की प्रदर्शनी में सिरोही की सुप्रसिद्ध तलवारों का प्रदर्शन किया गया। जिसमें रणशाही तलवार, मानाशाही तलवार, सकेला तलवार, लहरिया तलवार, नागिन तलवार, खाण्डा तलार, सौसंगता तलवार, चांदी की ताराकशी काली तलवार, बलमबाला ढाल और कटार, सिरोही की कटार, चांदी की कारीगरी वाली तलवार सहित कई तरह की तलवारों ने दर्शकों का मन मोह लिया।
इस अवसर पर विधायक संयम लोढा ने कहा कि अत्यन्त हर्ष का विषय है कि सिरोही शहर का पहली बार स्थापना दिवस मनाया जा रहा है। उन्होंने युवाओं का आव्हान किया कि वे शहर की ऐतिहासिक धरोहरों को सहेज कर रखें एवं इनके संरक्षण के लिए सदैव तत्पर रहें।

अरविन्द पैवेलियन पर आयोजित हुई विभिन्न प्रतियोगिताएँ

सिरोही स्थापना दिवस के अवसर पर अरविन्द पैवेलियन में रस्साकस्सी प्रतियोगिता, मेहन्दी प्रतियोगिता, मटका दौड एवं म्यूजिकल चेयर प्रतियोगिता का आयोजन हुआ। इस प्रतियोगिताओं के आयोजनो के बीच उपलागढ से आये आदिवासी भाई बहिनों ने सिरोही के वालर आदिवासी नृत्य, मालाणी सांस्कृतिक कला केन्द्र जसोल के कलाकारों ने राजस्थानी गैर नृत्य एवं भरुच गुजरात से आये सिद्धि गोमा पार्टी ने सिद्धि धमाल नृत्य की शानदार प्रस्तुति दी। इसके साथ प्रतियोगिताओं के दौरान बांस पर चलने का प्रदर्शन करते करतबाजों एवं विभिन्न स्वांग रचे कलाकारों ने जनता का भरपूर मनोरंजन किया।
रस्साकस्सी प्रतियोगिता में राजस्थान पुलिस की महिला पुलिस ने प्रथम स्थान, महिला एवं बाल विकास विभाग की महिलाओं ने द्वितीय स्थान एवं एनसीसी की बालिकाओं ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। जिन्हें क्रमशः 5000, 3000 एवं 2000 के नगद पुरस्कार से सममानित किया गया।

मटका दौड में सविता मगनलाल गोयली ने प्रथम स्थान, शारदा राजाराम दरबारी खेडा ने द्वितीय स्थान, हंजा कुमारी रिंगाराम दरबारी खेडा ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। मयूजिकल चेयर प्रतियोगिता में मनीषा चैधरी ने प्रथम स्थान, आशा कुमारी ने द्वितीय स्थान, मनीषा माली ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। विजेताओं को  क्रमशः 1500, 1000 एवं 500 रुपये का नगद पुरस्कार विधायक संयम लोढा एवं जिला कलेक्टर भंवर लाल के हाथों प्रदान किया गया। इन सभी कार्यक्रमों में आमजन ने बढ चढकर हिस्सा किया व आयोजित हुई सभी प्रतियोगिताओं में खिलाडियों का उत्साहवर्धन करने मे कोई कमी नही रखी।  
मेहन्दी प्रतियोगिता ने गंगा जमुनी तहजीब का अनूठा उदाहरण पेश किया । मेहन्दी प्रतियोगिता में तीनों स्थान मुस्लिम बालकाओं तमन्ना रंगरेज ने प्रथम स्थान, शबनम आशु ने दूसरा स्थान एवं फरीदा रंगरेज ने तृतीय स्थान प्राप्त किये। खास बात यह रही कि उनमें से दो प्रतिभागियों के हाथों पर भगवान गणेश का चित्र उकेरे होने से विधायक संयम लोढा व जिला कलेक्टर डाॅ भंवरलाल ने प्रतिभागी बालिकाओं के हाथों का फोटो लेकर उसे नजीर के रूप में लेने का आहान किया।
इस मौके पर अति. जिला कलक्टर कालूराम खौड, उपखंड अधिकारी रमेश बहेडिया, तहसीलदार निरजा कुमारी, नगर परिषद के सभापति महेन्द्र मेवाडा, उप सभापति जितेन्द्र सिंघी, राजेंद्र सांखला, पार्षदगण, समस्त जिला स्तरीय अधिकारी, सामाजिक संगठनों के पदाधिकारी समेत सिरोही शहर के गणमान्य नागरिक उपस्थित रहें।

दीपदान से हुआ सिरोही स्थापना दिवस महोत्सव का आगाज

देवनगरी को स्थापित हुए 6 सदियां बीत गई। देश को आजाद हुए 75 वर्ष होने के बाद इस वर्ष पहली बार सिरोही अपना स्थापना महोत्सव मना रहा है। सिरोही के 598 वें स्थापना दिवस का शुभारम्भ सारणेश्वर दरवाजे के बाहर स्थित रतन बावडी पर शनिवार को शाम हजारों की तादाद में दीपदान कर शुभारम्भ किया गया। तत्पश्चात् नुक्कड नाटक का आयोजन संतोषी माता मन्दिर के उस चैक से किया गया जिस चैक पर आजादी के बाद 15 अगस्त 1947 को पहला तिरंगा झण्डा फहराया गया था।
क्षेत्रीय विधायक संयम लोढा ने कहा कि शहर का प्रत्येक नागरिक शहर की सांस्कृतिक व ऐतिहासिक धरोहररों से जुडे। उन्होंने सिरोही के गौरवशाली इतिहास का वर्णन करते हुए कहा कि सिरोही ने सदैव अपनी जनता का मान बढाया है। उन्होंने कहा कि इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य आमजन में आत्मीयता व एक -दूसरे के प्रति सहयोग की भावना पैदा करना है। उन्होंने आमजनता से आव्हान किया कि वे प्रसन्नचित रहते हुए एक-दूसरे का सहयोग करते हुए आगे बढे।  

शनिवार को सायं सिरोही के चौधरी गली के पास स्थित शक्ति स्थल श्री शीशा जी मंदिर पर सिरोही नगर स्थापना दिवस पर इस प्राचीन मंदिर में मुख्यमंत्री सलाहकार एवं क्षेत्रीय विधायक संयम लोढा, जिला कलक्टर डाॅ भंवर लाल, पुलिस अधीक्षक धर्मेंद्र सिंह, अति. जिला कलक्टर कालूराम खौड, उपखंड अधिकारी रमेश कुमार, नगर परिषद सभापति महेन्द्र मेवाडा, उपसभापति जितेंद्र सिंधी, राजेंद्र सांखला समेत गणमान्य नागरिक एवं अधिकारीगण द्वारा  दीप व आरती धूमधाम से की, वहां सुंदर रंगोली की गई । तत्पश्चात सारणेश्वर गेट के बाहर स्थित रतन बावडी  ने दीप प्रज्जवलित किया गया साथ ही आमजन ने भी दीपदान कर सिरोही स्थापना दिवस महोत्सव का आगाज किया । सारणेश्वर दरवाजे पर विलास जानवे उदयपुर की टीम द्वारा हम नहीं सुधरेंगे नामक नुक्कड नाटक कार्यक्रम भी आयोजित किया गया।  

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )