पतंग छोड बेजुबान परिंदों का सहारा बने दो युवा

रवि दवे व प्रवीण प्रजापत ने बचाई पक्षियों की जान

मकर सक्रांति पर पेश की अनूठी मिसाल

रेवदर । देश भर में धूमधाम से मनाए जाने वाले पर्व मकर सक्रांति के अवसर पर दिन भर गली – मोहल्लों, गांव, शहर हर तरफ पतंगों की बारात का दृश्य नज़र आता है , वहीं सामाजिक चिंतकों द्वारा पतंगोत्सव के दौरान आसमान में उड़ने वाले परिंदों की सुरक्षा को लेकर लगातार अवगत करवाया जाता है । उपखण्ड क्षेत्र में पतंगों से पंछियों की सुरक्षा का जिम्मा दो जागरूक युवाओं ने निभाया, जो क्षेत्र में चर्चा का विषय बना । दोनों में मिलकर 19 घायल पक्षियों की जान बचाकर मिसाल पेश की ।

सोशल मीडिया में जारी किया था वीडियो

रेवदर कस्बे में जोशीवास निवासी रवि दवे ने मकर सक्रांति की सुबह सोशल मीडिया पर एक वीडियो जारी कर ग्रामीणों से अपील की थी कि पतंगबाजी के दौरान पक्षियों का भी ध्यान रखें, यदि कोई पंछी दुर्घटनाग्रस्त होता है तो उनको तुरन्त सूचना दी जाए ।

पक्षी सेवक बनकर निभाया अपना दायित्व

रवि दवे रेवदर एवं प्रवीण प्रजापत मलावा दोनों युवा पेशे से भजन गायक है । दोनों ने क्षेत्र में मकर सक्रांति के पर्व पर अपनी जिम्मेदारी पक्षी सेवक बनकर निभाई एवं पक्षियों की जान बचाने की शपथ सार्थक की । क्षेत्र में पक्षियों के घायल होने की सूचना मिलते ही दोनों मौके पर पहुंचते एवं हॉस्पिटल में उचित उपचार करवाते हुए उनकी जान की सुरक्षा का जिम्मा सतर्कतापूर्ण तरीके से निभाते ।

घायल पक्षियों का इलाज करवाते दोनों युवा ।

खाना – पानी की परवाह किये बगैर लगे रहे सेवा में

दोनों युवा दिनभर पक्षियों की जान बचाने के लिए तत्पर रहे, रवि दवे बताते हैं कि पूरे दिनभर में इतनी भारी संख्या में पंछी घायल हुए एवं ऐसी स्थिति में हमको सुपुर्द किये गए कि उन्हें देख कर हमारी भी आंखें भर आती । खाने पीने की परवाह किये बगैर पूरे दिन भूख प्यास को भूलकर पक्षियों की सेवा में दोनों युवा लगे रहे ।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )