सुराणा प्रकरण : अठावले बोले – आरोपी को फांसी हो, प्रदेश में लगे राष्ट्रपति शासन, बेनीवाल ने सीबीआई जांच की मांग रखी

सुराणा प्रकरण : अठावले बोले – आरोपी को फांसी हो, प्रदेश में लगे राष्ट्रपति शासन, बेनीवाल ने सीबीआई जांच की मांग रखी

दोनों नेताओं ने जालोर सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत करने के बाद मृतक इन्द्र मेघवाल के घर सुराणा पहुंचकर बंधाया ढाढ़स


जालोर । जिले के सायला उपखण्ड क्षेत्र के सुराणा में विद्यार्थी इन्द्र मेघवाल की मृत्यु मामले को लेकर शनिवार को केंद्र सरकार में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता केंद्रीय राज्यमंत्री रामदास अठावले तथा नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल सुराणा पहुंचे और परिजनों से मिलकर घटना की जानकारी ली। इससे पहले केंद्रीय राज्यमंत्री व आरपीआई (ए) के अध्यक्ष रामदास अठावले ने कहा कि एक मासूम विद्यार्थी के साथ हुई यह घटना बेहद निंदनीय है। अठावले ने इस घटना की निंदा करते हुए इसकी रिपोर्ट केंद्र सरकार को भेजने की बात कही। साथ ही कहा कि इसके दोषी को फांसी की सजा होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि राजस्थान में आए दिन दलितों के साथ हिंसा बढ़ रही है, स्थिति को देखते हुए लगता है यहां राष्ट्रपति शासन लागू कर देना चाहिए। अठावले ने परिजनों को पार्टी की तरफ से तीन लाख रुपए आर्थिक मदद देने की घोषणा भी की है।


बेनीवाल बोले-निष्पक्ष जांच पर शंका
राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक व नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने भी सुराणा पहुंचकर घटना की जानकारी ली। उन्होंने सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत में मृतक इन्द्र प्रकरण में निष्पक्ष जांच के लिए मामला सीबीआई को सौंपने की बात कही। बेनीवाल ने कहा कि गहलोत सरकार के स्थानीय नेताओं ने गलत तथ्य बताकर गुमराह कर दिया और प्रकरण से मटकी को गायब ही करवा दिया। वहीं बीजेपी के नेताओं ने तो वोटबैंक गायब होने की आशंका के चलते मुंह पर ताला लगा रखा है, स्थानीय विधायक ने तो गहलोत का ही साथ दे दिया, इसलिए दोनों पार्टियों की मिलीभगत सामने आ चुकी है। स्थानीय पुलिस पर निष्पक्ष जांच का भरोसा नहीं रहा है, इसलिए इस मामले की सीबीआई जांच होनी चाहिए, ताकि कोई निर्दोष फंसे नहीं और दोषी बचे नहीं। सांसद बेनीवाल ने जिला कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक को हटाने की मांग भी रखी। इस दौरान भोपालगढ़ विधायक पुखराज गर्ग, खींवसर विधायक नारायण बेनीवाल, मेड़ता विधायक इंद्रा मेघवाल, प्रदेश महामंत्री उम्मेदाराम बेनीवाल, राजूराम खोजा, रेवंतराम डागा, भोमाराम बेरड़, रामदीन, विजयपाल बेनीवाल, छुटन यादव, रोहित गुर्जर, प्रताप आँजणा समेत बड़ी संख्या में कार्यकर्ता साथ थे।

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )