जालौर में सर्वसमाज ने सरकार को दिया 7 दिन का अल्टीमेटम

जालौर में सर्वसमाज ने सरकार को दिया 7 दिन का अल्टीमेटम

जिला कलेक्टर को ज्ञापन देकर सुराणा प्रकरण में निष्पक्ष जांच की मांग

जालोर.जालौर जिले के सायला थाना क्षेत्र के सुराणा गांव में विद्यार्थी इंद्र मेघवाल की थप्पड़ मारने के बाद हुई मौत के मामले में निष्पक्ष कार्रवाई को लेकर सर्वसमाज की ओर से जिला मुख्यालय पर मलकेश्वर मठ मैदान में गुरुवार को जनसभा कर जिला कलेक्टर को एक ज्ञापन सौंपा और निष्पक्ष कार्रवाई के लिए 7 दिन का अल्टीमेटम भी दिया है। ज्ञापन में बताया कि शिक्षक छैलसिंह को गलत तरीके से फंसाया जा रहा है। साथ ही मटकी का मुद्दा बनाकर समाज मे वैमनस्य फैलाने का प्रयास किया जा रहा है। ज्ञापन में बताया कि थप्पड़ मारने की जिस दिन की घटना है अगर भेदभाव होता तो उसी दिन शिकायत करने का अवसर था।छात्र की मृत्यु का सभी को दुख है, लेकिन द्वेषता की भावना की निष्पक्ष जांच आवश्यक है। क्योंकि मृत्यु के बाद में जो पानी की मटकी को लेकर विवाद खड़ा किया गया है, यह समाज में द्वेष भावना को पैदा करने की साजिश है। इस अवसर पर बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे। एक साथ दो प्रदर्शनों को देखते हुए कलेक्टर स्वयं मलकेश्वर मठ पहुंचे और सर्वसमाज के प्रतिनिधिमंडल से ज्ञापन प्राप्त किया।भीमसेना कार्यकर्ताओं ने जाम किया मार्गइसी प्रकार भीम सेना के कार्यकर्ताओं की ओर से भी गुरुवार को जिला कलेक्ट्रेट के सामने प्रदर्शन किया गया।कार्यकर्ताओं ने आजाद समता पार्टी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद को जालौर आने से पुलिस द्वारा की गई रोकने की कार्रवाई का विरोध किया गया। कार्यकर्ताओं ने चंद्रशेखर आजाद के जालौर आने की मांग रखी। शाम 4 बजे बाद में कार्यकर्ताओं ने भीनमाल बाईपास चौराहे पर जाकर सड़क जाम कर दी। देर शाम तक सड़क पर जाम रही।बेरवाल बोले- पीड़ित परिवार को न्याय जरूर मिलेइधर, राजस्थान ह्यूमन रिसोर्स डेवलपमेंट फाउंडेशन के संरक्षक सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी कन्हैयालाल बेरवाल ने सुराणा प्रकरण को लेकर सुराणा गांव का दौरा किया। पीड़ित परिवार के सदस्यों से मिलकर अपनी संवेदनाएं व्यक्त की और संपूर्ण घटनाक्रम की विस्तार से जानकारी ली। स्थानीय सर्किट हाउस में पत्रकार वार्ता के दौरान उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति के बालक इन्द्र कुमार मेघवाल निवासी सुराणा के साथ विद्यालय में हुई मारपीट से मौत होना बहुत दुखद है। उन्होंने कहा कि अध्यापक द्वारा बालक इन्द्र कुमार के थप्पड़ मारने से कान पर गहरी चोट के कारण इलाज के दौरान बालक की मृत्यु हुई है इसके पर्याप्त साक्ष्य उपलब्ध हैं। अत: हत्या का अपराध निश्चित रूप से घटित हुआ है क्योंकि बालक अनुसूचित जाति का है अत: अनु जाति जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम का अपराध भी गठित होना स्पष्ट है । पुलिस को इस जघन्य अपराध की गहनता से तफ़्तीश करनी चाहिए तथा सभी प्रकार के साक्ष्य एकत्र कर चालान पेश करना चाहिए ताकि आरोपी को कठोर सजा मिले व पीड़ित परिवार को न्याय मिल सके।हम पुलिस प्रशासन व राज्य सरकार से गहन जाँच करने वह पीड़ित पक्ष को अधिकाधिक मदद प्रदान करने की पुरज़ोर माँग करते हैं। उन्होंने कहा कि दोषी को कठोर से कठोर सजा मिले लेकिन किसी प्रकार का जातिगत वैमनस्य नहीं बढ़े व सामाजिक सौहार्द बना रहे।

जालौर के सुराणा गांव में एकत्रित हुए ग्रामीण।
CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )