श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए राजस्थान ने अर्पित किए 539 करोड़ रुपए

देश में सर्वाधिक समर्पण निधि राजस्थान से

▫️भारत माता मंदिर कार्यालय में सोमवार को श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव एवं विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय ने मंदिर निर्माण से जुड़े विषयों पर पत्रकार वार्ता को संबोधित किया। इससे पूर्व मंदिर निर्माण में सहयोग करने वाले कार्यकर्ताओं की बैठक में वरिष्ठ कार्यकर्ताओं को सम्मानित भी किया।


जयपुर । श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव एवं विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय ने बताया कि श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास की ओर से 15 जनवरी 2021 से 27 फरवरी 2021 तक समर्पण निधि संग्रह अभियान के अंतर्गत राजस्थान के 3 प्रांतों में कार्य संपन्न हुआ। जयपुर तथा जोधपुर प्रांत की ऑडिट रिपोर्ट पूर्ण हो चुकी है जबकि चित्तौड़ प्रांत की ऑडिट जारी है तदनुसार राम जन्मभूमि स्मारक निर्माण अभियान में जयपुर प्रांत ने 139,13,26,563 तथा जोधपुर प्रांत ने 214,97,87,314 रुपए जुटाए। इनका कुल योग 354, 11,13,877 रुपए रहा। चित्तौड़ प्रांत सहित राजस्थान से कुल संग्रह लगभग 539 करोड रुपए रहा।


चंपत राय ने कहा कि श्रीराम जन्मस्थल पर संपूर्ण संस्कृतिक केंद्र के निर्माण का कार्य तीव्र गति से चल रहा है जिसके एक भाग में राम मंदिर का निर्माण कार्य दूसरे चरण में प्रवेश कर चुका है।


राजस्थानवासियों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि भगवान श्रीराम के जन्मस्थल पर निर्माणाधीन स्मारक हेतु राजस्थानवासियों ने अत्यंत उत्साह से सर्वाधिक निधि संग्रह किया। यह राजस्थान के लिए गौरव का विषय है कि श्रीराम मंदिर व स्मारक में राजस्थान के पत्थरों एवं यहां के कारीगरों का सर्वाधिक उपयोग और सहयोग रहा है। साथ ही अप्रवासी राजस्थानियों ने भी श्रीरामजन्मभूमि हेतु बढ़-चढ़कर सहयोग किया।

प्रेस वार्ता में विहिप उपाध्यक्ष चंपत राय के अतिरिक्त विहिप केंद्रीय सह मंत्री गोपाल, राममंदिर न्यास के सदस्य अनिल मिश्रा, संत सुंदरनाथ महाराज, केंद्रीय समिति के विशेष आमंत्रित सदस्य दामोदरदास मोदी, क्षेत्र मंत्री सुरेश, प्रांत प्रचारक शैलेंद्र कुमार, प्रांत कार्यवाह गेंदालाल, प्रचारक सुदामा, सह प्रांत प्रचारक बाबूलाल, टाटा कंपनी के प्रतिनिधि विनोद शुक्ला व विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ता उपस्थित थे।

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )