पोटाश खनन करने वाला देश का पहला राज्य बनेगा राजस्थान

[ad_1]

पोटाश खनन करने वाला देश का पहला राज्य बनेगा राजस्थानपोटाश खनन करने वाला देश का पहला राज्य बनेगा राजस्थान

प्रदेश के खान मंत्री सुरेन्द्र पाल सिंह टीटी का दावा है कि राजस्थान देश का ऐसा पहला राज्य बन रहा है जहां अच्छी क्वालिटी का पोटाश मिला है।

जयपुर, जागरण संवाद केन्द्र। राजस्थान शीघ्र ही पोटाश खनन करने वाला देश का पहला राज्य बन जाएगा। राजस्थान के बीकानेर जिले में पोटाश के पर्याप्त भंडार मिले है। प्रदेश सरकार द्वारा पिछले 5 वर्षों से पोटाश भंडारों की खोज की जा रही थी। वर्ष 2013 से प्रदेश के 6 जिलों में खोज शुरू हुई थी, इनमें बीकानेर, श्रीगंगानगर, चुरू, सिरोही और बांसवाड़ा शामिल है। बीकानेर में 600 मीटर गहराई तक पोटाश की खोज की गई और सफलता भी मिली। हालांकि अन्य जिलों में राज्य के खान विभाग को पोटाश खोजने में सफलता नहीं मिल सकी है।

 प्रदेश के खान मंत्री सुरेन्द्र पाल सिंह टीटी का दावा है कि राजस्थान देश का ऐसा पहला राज्य बन रहा है जहां अच्छी क्वालिटी का पोटाश मिला है। बीकानेर में पर्याप्त मात्रा में पोटाश के भंडार मिले है। कुछ स्थानों पर ओर पोटाश होने के संकेत मिले है। अब पोटाश खनन के लिए लाइसेंस जारी किए जाने की प्रक्रिया शुरू होगी। इसके लिए मंत्रिमण्डल की बैठक में प्रस्ताव पारित कराया जाएगा।

 खान मंत्री का कहना है कि राजस्थान में पोटाश खनन होने से प्रदेश की मांग तो पूरी होगी ही, साथ ही देश के अन्य राज्यों में भी पोटाश सप्लाई किया जाएगा। खान विभाग के अधिकारियों का दावा है कि पोटाश मिलने से बीकानेर के किसानों की जमीनों की कीमत बढ़ेगी, वहीं रोजगार के अवसर भी मिलेंगे। वहीं सरकार को भी पोटाश के खनन से राजस्व मिलेगा।

 उल्लेखनीय है कि इससे कुछ दिन पूर्व ही राजस्थान में बड़ी मात्रा में जिप्सम के भंडार मिले थे। जिप्सम की खोज के लिए भी खनन विशेषज्ञ लम्बे समय से सक्रिय थे। सरकार ने निर्णय किया कि जिन किसानों की जमीन में जिप्सम के भंडार मिलेंगे उन्हे इसे निकालने की अनुमति दी जाएगी।

यह भी पढें: ‘BJP शासित राज्यों में बिगड़ती कानून – व्यवस्था पर चुप क्यों हैं PM’

यह भी पढें: आर्थिक रूप से पिछड़ों को आरक्षण देगी राजस्थान सरकार

[ad_2]

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )