नोटबंदी के बाद 70 फीसदी तक गिर गया ज्वैलर्स का कारोबार

[ad_1]

नोटबंदी के बाद 70 फीसदी तक गिर गया ज्वैलर्स का कारोबार

नकदी की किल्लत के चलते जनता तो परेशान है ही, लेकिन सबसे ज्यादा मुश्किल ज्वैलर्स को हो रही है

नई दिल्ली: केंद्र सरकार की तरफ से लिए गए नोटबंदी के फैसले का व्यापक असर देशभर में देखा जा रहा है। कैश की किल्लत के चलते आम आदमी तो परेशान है ही, लेकिन सबसे ज्यादा मुश्किल ज्वैलर्स को हो रही है। जानकारी के मुताबिक बाजार में 500 और 1000 रुपए के नोटबैन होने के बाद से अबतक ज्वैलर्स की बिक्री में 70 फीसदी तक की गिरावट देखने को मिली है। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते 8 नवंबर को राष्ट्र के नाम संबोधन के दौरान 500 और 1000 के नोटों को बैन करने की घोषणा की थी।

विश्लेषकों का क्या है कहना
दिलचस्प बात यह है कि आभूषण विक्रेताओं की तरफ से भारी छूट दिए जाने के बावजूद सोने में यह गिरावट देखने को मिली है। दरअसल आभूषण विक्रेता छोटे-नोटों को लेकर बिक्री नहीं कर सकते हैं वहीं अब देश में नकदी की भारी समस्या के चलते आभूषण विक्रेता चेक के जरिए लोगों से भुगतान लेने को मजबूर हैं।

काले धन को सफेद कर रहे हैं ज्वैलर्स, ब्लैक मार्केट में सोने की कीमत हुईं दोगुना
देश में 500 व 1000 रुपये के नोटों पर पाबंदी लगने के दूसरे दिन यानी नौ नवंबर को आयकर विभाग के अधिकारियों ने दिल्ली के कनाट प्लेस में स्थित एक बड़े ज्वैलर्स की दुकान पर रात के एक बजे छापा मारा। दुकान का शटर डाउन था। बाहर महंगी गाड़ियों की भीड़ थी। लेकिन बंद शो रूम के भीतर दर्जनों लोगों की भीड़ थी। वहां एकत्रित लोगों का एकमात्र उद्देश्य ब्लैक में रखे गये नकदी को सफेद करना था। स्वर्ण आभूषण या सोने के बिस्किट खरीदने का काम बरकरार है। ब्लैक मार्केट में सोने की कीमत तकरीबन दोगुनी हो चुकी है।

आयकर विभाग के अधिकारी बताते हैं कि उन्हें इस बात की खबर मिल रही है कि देश के कई हिस्सों में सोने के जरिये ब्लैक मनी को सफेद किया जा रहा है। यही वजह है कि पिछले एक हफ्ते के दौरान कम से कम एक दर्जन शहरों में सोने के कारोबार से जुड़े कारोबारियों पर छापे मारे गये हैं।

[ad_2]

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )