जयपुर के शहीद मेजर संकल्प यादव को दी गई अंतिम विदाई, माता-पिता ने किया सेल्यूट

जयपुर के शहीद मेजर संकल्प यादव को दी गई अंतिम विदाई, माता-पिता ने किया सेल्यूट

जयपुर, रामस्वरूप लामरोड़

शुक्रवार 11 मार्च को उत्तरी कश्मीर की गुरेज सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास सेना का हेलीकॉप्टर चीता दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इस हादसे में हेलीकॉप्टर के सह पायलट मेजर संकल्प यादव शहीद हो गए। शहीद मेजर संकल्प यादव जयपुर के रहने वाले थे। शनिवार दोपहर को शहीद मेजर संकल्प यादव की पार्थिव देह जयपुर पहुंची। शाम 4 बजे जयपुर के अजमेर रोड़ स्थित मोक्षधाम में सेन्य सम्मान के साथ शहीद की पार्थिव देह का अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान सेना के दर्जनों अधिकारी, जवान और सैंकड़ों लोगों ने अमर शहीद मेजर संकल्प यादव को नम आंखों से अंतिम विदाई दी।

सेना ने दिया गार्ड ऑफ ऑनर, भारत माता की जय से गूंजा मोक्षधाम

शहीद मेजर संकल्प यादव को अंतिम विदाई देने से पहले सेना की ओर से मेजर संकल्प यादव को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। जयपुर स्थित उनके घर से मोक्षधाम तक फूल मालाओं से सजे सेना के ट्रक मेजर की पार्थिव देह को लाया गया। सैंकड़ों की तादात में लोग ट्रक के पीछे पीछे चलते हुए मोक्षधाम तक पहुंचे। अंतिम यात्रा के दौरान और मोक्षधाम में लगातार भारत माता की जयकारे गूंजते रहे और मेजर संकल्प यादव अमर रहे के नारे लगते रहे। मेजर संकल्प यादव के बड़े भाई रोहिश यादव ने पार्थिव देह को मुखाग्नि दी। इस दौरान मां उषा, पिता सुरेन्द्र कुमार यादव सहित सभी पारिवारिक सदस्य मौजूद रहे।

तिरंगे में लिपटे मेजर संकल्प यादव को देखकर बिलख उठी मां

शनिवार दोपहर डेढ बजे शहीद मेजर संकल्प यादव की पार्थिव देह जयपुर एयरपोर्ट पहुंची। इसके बाद सैन्य अधिकारी देह को मेजर के निवास स्थान तक लाए। तिरंगे में लिपटे मेजर संकल्प यादव को देखकर उनकी मां बिलख उठी। सैन्य अधिकारियों ने शहीद मेजर की मां को संभाला। मेजर के आवास पर सुबह से ही सैन्य अधिकारियों, जवानों और स्थानीय लोगों की भीड़ जुट गई। हर कोई जयपुर के वीर मेजर के अंतिम दर्शन करने के बेताब थे।

मोक्षधाम में मेजर संकल्प यादव को माता-पिता ने किया सेल्यूट

सैन्य अधिकारियों द्वारा गार्ड ऑफ ऑनर दिए जाने के दौरान शहीद मेजर संकल्प यादव की मां उषा यादव और पिता सुरेन्द्र यादव ने बेटे को सेल्यूट किया। अपने वीर बेटे के महज 29 वर्ष की उम्र में ही शहीद होने पर परिजनों को काफी दुख हुआ लेकिन पिछले छह साल तक सेना में बतौर मेजर उनके साहसिक कार्यों पर गर्व महसूस किया। मेजर संकल्प यादव बचपन से ही सेना में जाना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने अलग से विशेष तैयारी शुरू कर दी थी। वर्ष 2015 में उनका सेना में सलेक्शन हुआ।

जन्मदिन के 17 दिन पहले शहीद हो गए मेजर संकल्प यादव

29 मार्च को मेजर संकल्प यादव का जन्मदिन है। फरवरी में ही वे एक महीने की छुट्टी बिताकर ड्यूटी पर लौटे थे। परिवार वाले 29 मार्च को बर्थ डे मनाने का इंतजार कर रहे थे लेकिन बीच उनके शहीद होने की खबर आ गई। शहीद मेजर संकल्प यादव अविवाहित थे। परिवार वाले उनकी शादी के लिए लड़की देख रहे थे लेकिन नियती को शायद यह मंजूर नहीं था और मेजर संकल्प यादव शहीद हो गए। भले ही मेजर इस दुनिया से विदा कर गए लेकिन लोगों के दिलों में अमर हो गए।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मेजर संकल्प यादव की शहादत को सलाम किया

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मेजर संकल्प यादव के शहीद होने पर उनकी शहादत को सलाम किया है। मुख्यमंत्री ने ट्वीट के जरिए अपनी संवेदनाएं व्यक्त करते हुए लिखा कि मेजर संकल्प यादव ने सर्वोच्च बलिदान दिया है। शहीद मेजर संकल्प यादव के शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि इस कठिन समय में हम उनके परिवार के साथ खड़े हैं। ईश्वर से प्रार्थना है कि वे दिवंगत शहीद मेजर संकल्प यादव की आत्मा को शांति प्रदान करें।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )